एडजस्टेन में रिकॉर्ड सही करने के लिए भारत का एतिहासिक दिन

बुधवार को एडजस्टेन में भारत बनाम इंग्लैंड, एक प्रतिद्वंदी मुकाबला खेला जाएगा. यह मैच एक अगस्त को इन दोनों के बीच होगा. यह इंग्लैंड का हजारवां टेस्ट मैच है. भारत के लिए भी यह मैच जरूरी है क्योंकि इसमें वो अपने पुराने रिकॉर्ड सही करना चाहेंगे.

 

एडजस्टेन का ग्राउंड इंग्लैंड के लिए काफी भाग्यशाली माना जाता है, और एशिया की टीमों के लिए घातक, क्यूंकि अब तक इस मैदान पर इंग्लैंड ने अब तक कुल पचास मैच खेले हैं जिनमें से कई में उन्हे जीत मिली है. पाकिस्तान और श्रीलंका ने कुल 16 मैच यहां खेले हैं जिनमें से उन्हे एक में भी जीत हासिल नहीं हुई है. भारत ने भी यहां छह में से एक भी मैच नहीं जीता है, और 1902 से इंग्लैंड ने यहां पर बस आठ मैच ही हारें हैं.
जब भारत ने यहां पहला मुकाबला खेला था भारतीय क्रिकेट टीम ने यहां अपना पहला मुकाबला 1967 में खेला था. उस मुकाबले में भारतीय टीम को 132 रन से हार मिली थी. भारत ने उस सीरीज में कुल 18 मैच खेले जिनमें से 2 में जीत और 7 में हार मिली. कुल 9 मुकाबले ड्रा भी किए गए थे.

 

मंसूर अली खान पटौदी की अगुवाई में टीम ने सीरिज हारी थी. और मेजबान आसानी से जीत गए थे.

 

एडजस्टेन में बल्लेबाजी 
अपने ऊपरी क्रम के अच्छे बल्लेबाजों की अच्छी फ़ॉर्म के चलते भारत ने कपिल देव की कप्तानी में 1986 में यहां मुकाबला ड्रा किया था. उस समय मोहिंदर अमरनाथ और मोहम्मद अज़हरूद्दीन फ़ॉर्म में थे. इस मैदान पर भारत के उपरी क्रम ने अच्छा प्रदर्शन काफी कम बार किया है. उपरी क्रम के बल्लेबाजों की औसत इस मैदान पर 26.2 है जोकी औसतन से काफी कम है. भारत ने यहां जो छह मुकाबले खेले हैं उनमें केवल सचिन ने ही शतक लगाया है.

 

एडजस्टेन में गेंदबाजी 

 

बल्लेबाजों की तरह गेंदबाजों ने भी इस मैदान पर कुछ खास नहीं किया. ईरापल्ली प्रसन्ना, कपिल देव, चेतन शर्मा और वेंकटेश प्रसाद के अलावा किसी भी गेंदबाज का अबतक कोई खास प्रदर्शन नहीं रहा. किसी भी गेंदबाज ने यहां पांच विकेट से ज्यादा नहीं झटके. फिलहाल भारतीय टीम के गेंदबाजों  में केवल इशांत शर्मा ने ही यहां मैच खेला है, बाकी सभी गेंदबाजों का यह पहला मुकाबला होगा. उन सभी देशों ने जो यहां पर खेले हैं, उनमें भारतीय गेंदबाजों की औसत सबसे ज्यादा खराब रही. गौरतलब है कि यहां गेंदबाजों की औसत लगभग पचास की है. यहां अबतक का सबसे खराब प्रदर्शन श्रीशांत ने किया था. तेज गेंदबाज ने कुल 158 रन दिए थे, जिसके बदले में उन्हे एक विकेट भी नहीं मिला था.

 

एडजस्टेन का इतिहास भारतीय टीम के लिहाज से काफी खराब है, पर उम्मीद यही है कि भारतीय टीम इसे सुधारेगी.
भारत 
विराट कोहली (कप्तान),
कुलदीप यादव, मुरली विजय, रवींद्र जडेजा, ऋषभ पन्त, के एल राहुल, शिखर धवन, अजिंक्य रहाणे, दिनेश कार्तिक ( विकेट कीपर) चेतेश्वर पुजारा, उमेश यादव, करुन नायर, रविचंद्रन अश्विन, हार्दिक पांड्या, ईशांत शर्मा, शार्दुल ठाकुर, मोहम्मद शमी, जस्प्रिट बूमराह.
इंग्लैंड 
जो रूट(कप्तान),
जेम्स एंडरसन, किटोंन जेनिंग, एलेस्टेयर कुक, जॉनी बेयरस्टो, बेन स्टॉक, जोश बटलर, डेविड मलन, अदिल राशिद, मोइन अली, जेमी पोर्टेर, सैम करन, स्टुअर्ट ब्रॉड.

Previous Article
Next Article

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *