उम्र चुनाव में बाधा नहीं हो सकती : तेंडुलकर 

 

महान बल्लेबाज पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने इंग्लैंड का समर्थन किया है.गौरतलब है कि इंग्लैंड ने अपनी टीम में सैम करन और ओल्ली पॉप को शामिल किया जिनकी उम्र काफी कम है, पर सचिन को लगता है कि उम्र राष्ट्रीय टीम में खेलने में बाधा नहीं बन सकती.

 

तेंदुलकर ने कहा कि, ” अगर कोई अच्छा खेल रहा है, तब उसे अपने देश से खेलने के लिए मौका मिलना चाहिए.” इंग्लैंड ने 20 वर्षीय सैम और ओल्ली पॉप को दूसरे टेस्ट के लिए टीम में शामिल किया. दूसरा टेस्ट गुरुवार से लंदन के लॉर्ड्स में खेला जायेगा.

 

जहां सैम करन ने अपनी महत्ता पहले ही मैच में साबित कर दी है, वहीं ओल्ली पॉप से अपने पहले कॉलअप के बाद काफी उम्मीदें हैं.

 

सैम करन ने भारतीय पहली पारी के चार विकेट झटके और 63 महत्वपूर्ण रन बनाये.

 

तेंडुलकर ने कहा कि उन्होने अपना करियर 16 की उम्र में किया था जिससे उन्हे काफी मदद मिली थी.

 

सचिन ने अपने पुराने दिन याद किये 

 

सचिन ने बताया कि, ” मैं बस 16 साल का था जब मेरा पहला मैच था. मुझे अपने पहले ही मैच में अब्दुल कादिर, वकार यूनिस, इमरान खान और वसीम अक्रम को खेलना था.” तेंदुलकर ने आगे बताया कि, ” शुरुआत में आप काफी फुर्तीले और चुस्त होते हैं पर जैसे जैसे आप करियर में आगे बढ़ते है आपको अनुभव होता है. आप अलग अलग वस्तुओं से सीखते हैं. “

 

तेंदुलकर ने यह भी कहा कि सैम को प्रेरित रहने की जरूरत है ताकि वे आगे अच्छा कर पायें.

 

“यह उम्र होती है जहां हर चीज से परे आप केवल अपने प्रदर्शन पर ध्यान देते हो. इस उम्र में कई कठोर चरण आते है पर वे सब सीख का हिस्सा हैं. “