ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कप्तान और बेहतरीन बल्लेबाज़ों में गीने जाने वाले खिलाड़ी माइकल क्लार्क ने पिछले दिनों क्रिकेट को अलविदा कहने वाले इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक की प्रशंशा करते हुए उन्हें एक बेहतरीन इंसान बताया है। क्लार्क ने कहा की एलिस्टेयर कुक क्रिकेट के बेहतरीन खिलाड़ी भी हैं साथ ही क्लार्क इस बात की ओर भी इशारा किया की कुक को वह सम्मान नही मिला है जिसके वह हकदार हैं।

एक ऑस्ट्रेलियाई न्यूज़ वेबसाइट से बात करते हुए क्लार्क ने अपने विचार खुल कर रखे और क्रिकेट को अलविदा कह चुके एलिस्टेयर कुक की जम कर तारीफ की। कुक की प्रशंशा करते हुए उन्होंने कहा की, यह महत्वपूर्ण नही है की आप क्या कहते हैं, बल्कि आप करते क्या हैं वह महवपूर्ण है और कुक इस बात के अच्छे उदाहरण हैं। कुक के साथ खेले मैचों के दिनों को याद करते हुए कहा की कुक न तो मैदान पर या न तो मैदान के बाहर अधिक बात करते थे. लेकिन जब भी कुछ कहते थे तो वह महत्वपूर्ण ही होता था।

क्लार्क ने आगे कहा की क्रिकेट के खेल में ओपनर बल्लेबाज़ होना आसान काम नही है, यह बल्लेबाज़ी के लिए बहुत ही मुश्किल स्थान होता है लेकिन कुक ने इस स्थान की काफी बेहतरीन तरीके से संभालते हुए ओपनर की ज़िम्मेदारी की बखूबी निभाया है। कुक के बारे में कहा की वह एक फाइटर खिलाड़ी थे जिन्हें हर परिस्तिथि में रन बनाने की कला मालूम है और यही एक महान खिलाड़ी की पहचान है। वह विश्व के किसी भी कोने में खेल रहे हों, उन परिस्तिथियों में जल्दी धल जाते हैं और खुद को कमायब बना लेते हैं।

क्लार्क ने इस बात की ओर भी इशारा किया की इस तरह के अच्छे खिलाड़ी को जिस प्रकार का सम्मान मिलना चाहिए वह उन्हें नही दिया गया है।

कुक के बेहतरीन प्रदर्शन की तरफ देखें तो उनमे से एक बेहतरीन प्रदर्शन इंग्लैंड-

ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए 2010/11 के एशेज सीरीज़ मे ऑस्ट्रेलियाई सरज़मीं पर आया था। तब कुक उस टूर्नामेंट में बेजोड़ फॉर्म में रहे थे और 766 रन जोड़ते हुए टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई थी।