पूर्व इंग्लैंड खिलाड़ी, ग्रेम स्वान जो एक वक़्त में, सन 2011 में नंबर एक टेस्ट क्रिकेट गेंदबाज बने थे. उन्होने टेस्ट क्रिकेट में खेलना काफी देर से शुरू किया था, पर उनके 6 साल के टेस्ट करियर में 255 विकेट लिये थे. जब उन्होने टेस्ट क्रिकेट से सन्यास लिया तब उन्होने 255 कुल विकेट लिये. मौजूदा वक़्त में वे ईएसपीएन और बीबीसी के लिए कमेंटरी करते हैं. एक इन्टरव्यू के दौरान, उन्होने अपने गेंदबाजों के करियर की बात की और इस दौर के गेंदबाजों की बात की.

 

स्वान ने अपने छोटे से करियर में शानदार रिकॉर्ड बनाया, और फिर उन्होने सन्यास लिया. स्वान की औसत 29.96 थी, स्वान ने कहा कि वे अपनी औसत की परवाह नहीं करते, वे बस फाइव विकेट हौल के बारे में सोचते हैं. उन्हे लगता है कि फाइव विकेट हौल से ही मुकाबले जीते जाते हैं. स्वान ने 17 फाइफर लिये हैं, और 14 फॉरफर टेस्ट क्रिकेट में लिये हैं.

Image credit @Getty Images

उनसे पूछा गया कि इंग्लिश टीम में स्पिन गेंदबाज होना कितना मुश्किल है? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इंग्लैंड टीम से जुड़ा होना कोई मुश्किल है. विश्व की हर पिच टर्न करती है. जेम्स एंडर्सन के साथ खेलने पर वो गौरवान्वित महसूस करते हैं. स्वान को बाएं हाथ के गेंदबाजों को आउट करने का जिम्मा मिला था और उन्हे फक्र है कि उन्होने यह बखूबी किया.

 

इंटरव्यू के दौरान उनसे पूछा गया कि टॉप स्पिन गेंदबाज कौन है. स्वान ने रविचंद्रन अश्विन का नाम लिया और कहा कि वे सबसे अच्छे ऑफ स्पिनर गेंदबाज हैं. स्वान ने सबकोनीटेंट के रिकॉर्ड का हवाला देते हुए कहा कि, रविचंद्रन अश्विन शानदार गेंदबाज है, और आप देख सकते है किसी उन्होंने पहले टेस्ट मैच में शानदार ढंग से गेंदबाजी की. दूसरा नाम उन्होने ऑस्ट्रेलिया के नाथन लियोन का लिया. उन्होने कहा कि उनका करियर भी शानदार है, पर वे होम पिच पर ही अच्छा काम कर पाए हैं अब तक. इंग्लैंड की जमीन पर अश्विन, लियोन से ज्यादा अच्छे हैं.

Image credit @BCCI

अश्विन और लियोन के बारे में बात करते हुए कहा कि, ये दोनों टेस्ट में बेस्ट हैं पर टी20 में राशिद खान सबसे अच्छे हैं. स्वान उनके फास्ट आर्म और गूगली को देख कर काफी प्रभावित हैं. राशिद खान एक प्रभावशाली क्रिकेटर हैं, और वे टेस्ट क्रिकेट में अच्छा करेंगे, भविष्य में.

 

अन्त में उन्होने कहा कि बेस्ट टिप उन्हे वॉर्न से मिली है. स्वान के अनुसार शेन वॉर्न ने उन्हे बेस्ट टिप ने सबसे अच्छी सलाह दी है. वॉर्न के अनुसार, पिच उससे काफी ज्यादा प्रदर्शन कर सकती है, जितना स्पिनर करने का प्रयास करेगा. वे ऐसा हमेशा पहली पारी में करते थे. स्वान हमेशा अपनी विभिन्नता और गति में अन्तर का उपयोग करते थे. उनका लक्ष्य विकेट लेना होता था सदैव.