पूर्व ऑस्ट्रेलियाई विश्वकप विजेता कप्तान और दिग्गज बल्लेबाज, रिकी पोंटिंग को लगता है कि कप्तान स्मिथ और उपकप्तान डेविड वॉर्नर पर लगे बैन ने संपूर्ण विश्व को चकित कर दिया था. लोगों के लिए यह एक मिशाल थी. गौरतलब है कि स्मिथ और वॉर्नर पर 12 महीने और कामरान बेंक्राफ्ट पर 9 महीने का बैन लगा है. यह बॉल टेंप्रीग दक्षिण अफ्रीका में ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान हुई थी.

 

स्प्रिट ऑफ क्रिकेट की मीटिंग, जोकी लॉर्ड्स में बीते दिनों हुई थी, पोंटिंग का बयान वहीं आया था. वहां आईसीसी के चीफ डेविड रिचर्डसन ने भी बयान दिया था. पोंटिंग वहां बाल टेम्परिंग पर बोले. यह एमसीसी का इवेंट था.
लेक्चर की शुरुआत डेविड रिचर्डसन ने की थी. उन्होने क्रिकेट की स्प्रिट के बारे में बात की. उन्होने कहा कि क्रिकेट केवल क्षमता से ही नहीं अच्छे व्यक्तित्व से भी खेला जाता है. हमें रोबोट नहीं चाहिए, हमें व्यक्तित्व चाहिएं. क्रिकेट में आपको समर्पित होना पड़ता है. क्रिकेट खेल से भी बढ़कर कुछ है, हमे इसका सम्मान करना होगा. बॉल टेम्परिंग किसी भी हालत में गलत है.

 

 

रिचर्डसन ने आगे कहा कि दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया की वह शृंखला हमारे लिए उदाहरण थी. खिलाड़ियों को उनकी जिम्मेदारी समझनी पड़ेगी. आप वहां केवल अपने आप को ही नहीं अपितु पूरे देश को प्रदर्शित कर रहे हैं. पूरी पीढ़ी आपसे सीखरही है. एक क्रिकेटर कभी भी चीटर नहीं हो सकता , वह कभी भी अंपायर और विपक्षीयों की अवहेलना नहीं कर सकता. बॉल के साथ छेड़छाड़ तो किसी भी हालत में नहीं करनी चाहिए, यह सरासर चीटिंग है.

रिचर्डसन आगे बोले कि जीतना जरूरी है पर इतना भी नहीं की उसके लिए खेल की आत्मा ही स्वाहा करनी पड़े. क्रिकेट में चीटिंग और यह सब देखने के बाद कौन अपने बच्चो को आगे भेजेगा खेलने. क्रिकेट को आगे बढ़ाने के लिए हमें समय समय पर ऐसे उदाहरण देने होंगे.

 

रिकी पोंटिंग ने डेविड का समर्थन किया और कहा कि, हमने बीते वर्षों में कई बॉल टेम्परिंग के मामले देखे हैं. यह स्वीकार्य नहीं है, और ऑस्ट्रेलिया में जिस तरह खिलाड़ियों को दंडित किया गया है, वह एक मिशाल है. हम आईसीसी के साथ है, और आने वाले समय में यह और भी तीक्ष्ण होगा.

 

पोंटिंग आगे बोले कि रिवर्स स्विंग काफी बड़ी समस्या बन चुकी है, पर देखा जाए तो पिच पर गेंदबाजों के लिए और कुछ बचा भी नहीं है. इस वक़्त सही गेंदबाज सही तरीका तलाश रहे हैं विकेट निकलने का.