नया रिकॉर्ड

दुबई अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में शुक्रवार को एशिया कप फाइनल में बांग्लादेश के खिलाफ मैच में महेंद्र सिंह धोनी ने अपने करियर में एक और उपलब्धि हासिल की। स्टंपिंग द्वारा मशरफी मुर्तजा को आउट करने के साथ ही धोनी ने हासिल किया मुकाम जिसमे उन्होंने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट्स में कुल मिलाकर 800 बार स्टम्पिंग करके बल्लेबाज को पवेलियन लौटाया ।

 

 

इस रिकॉर्ड ने अब धोनी को उन् तीन नामों में शामिल कर दिया है जिन्होंने क्रिकेट के खेल मे कीपिंग करते हुए सर्वाधिक विकेट्स लिए उनके इलावा दक्षिण अफ़्रीकी कीपर मार्क बाउचर जिन्होंने 998 बार खिलाडी को पवेलियन लौटाया उसके बाद ऑस्ट्रेलियाई खिलाडी एडम गिलक्रिस्ट जिन्होंने 905 बार ये काम किया।

कैसे और कब किया –

 

धोनी के दोनों स्टंपिंग कुलदीप यादव की गेंद पर आए। पहला ऐसा था जब यादव ने एक मुश्किल गेंदबाजी की जिसे लिटन दास ब्लॉक करने के लिए आगे आए जिसे धोनी ने स्टंप करने में जरा भी देरी नहीं की।

एक सेट बैट्समेन जो इंडियन टीम के लिए खतरा हो सकता था उसे आसानी से धोनी ने स्टंप करके पवेलियन लौटाया, और इसी के साथ ही धोनी ने कुमार संगकारा के रिकॉर्ड को भी तोड़ा जिन्होंने अब तक एशिया कप में सबसे ज्यादा बार स्टंपिंग की थी | ये एक मुश्किल निर्णेय था लेकिन टीवी के अंपायर ने इसको अच्छे से देखकर टीम इंडिया के पक्ष में फैसला दिया।

 

वही दूसरी स्टंपिंग का मौका धोनी को तब मिला जब कुलदीप ने उसी तरह की बॉल करके मोर्तज़ा को धोनी द्वारा स्टंप करवाया। मोर्तज़ा को स्टंप करके धोनी ने अपनी 800 स्टंपिंग को पूरा किया क्रिकेट के सभी फॉर्मेट्स को मिलाकर ।

एक और उपलब्धि

हालांकि, एशिया कप में धोनी के लिए ये एकमात्र उपलब्धियां नहीं थीं। अफगानिस्तान के खिलाफ मैच में रोहित शर्मा को विश्राम दिया गया और धोनी ने कप्तान के रूप में जिम्मेदारी संभाली। धोनी ने कप्तान के रूप में 200 वें ओडीआई मैच खेलकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया।

वह 696 दिनों के बाद भारत टीम के कप्तान के रूप में लौटे। इतिहास के पन्नो में धोनी क्रिकेट के सभी फॉर्मेट्स को मिलाकर सबसे सफल कप्तान है। धोनी क्रिकेट के एक मात्र ऐसे कप्तान है जिन्होंने तीनों आईसीसी ट्रॉफी जीती है । धोनी ने कप्तान के तौर पर 199 मैच खेले हैं जिसमें से उन्होंने 110 मैचेस में भारत को जीत दिलाई और उनकी कप्तानी में 74 बार भारत को हार का सामना करना पड़ा।