मैं रन बनाकर टीम को आगे ले जाना चाहता हूं

भारत और इंग्लैंड ने आजतक कुल 17 सीरीज  आपस में खेले जो इंग्लैंड में हुए हों, पर मेहमान टीम ने उनमें से केवल तीन ही सीरीज आजतक जीती हैं. 1932 से अब तक भारतीय  टीम ने केवल 3 शृंखला पर कब्जा किया है.

इस बार की सीरीज में परिणाम कुछ अलग देखने को मिल सकते है, गौरतलब है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली को जीत के लिए तत्पर माना जाता है. इसीलिए कयास लगाए जा रहे है कि वे टीम को जीत दिला पाएंगे. टीम की योजना और मार्गदर्शन पर बात करते हुए कोहली ने कहा कि, ” हमारी टीम बिल्कुल सही स्थिति में है, और हम सभी सकारात्मक सोच रहे हैं. मुझे लगता है कि हम सिरीज को पूरी तरह एंजॉय करेंगे, और अपना बेस्ट देंगे.”
“एक बड़ी सीरीज खेलने का मतलब होता है कि सही टीम संयोजन पता करने के लिए हमारे पास बहुत समय है.”
गेंदबाजी विभाग के बारे में बात करते हुए कोहली ने कहा कि मुझे गेंदबाजी पर विश्वास है. उन्होने पिछले सालों में अनुभव प्राप्त किया है, और वे अलग अलग पिच के बारे में जानकार हैं.
पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से कप्तानी लेने के बाद विराट ने टीम को बुलंदियों पर पहुंचाते हुए, रैंक वन पर पहुंचा दिया है. कोहली भी बल्लेबाजी में काफी नाम कमा चुके है, पर इंग्लैंड का पिछला दौरा उनके लिए सबसे खराब समय रहा था. उस दौरे में उन्होने 13.4 की औसत से 134 रन बनाए थे, जिसमें से दो बार उन्हे शून्य पर आउट होना पड़ा था. उन्होने कहा कि, “मैं बाहर जाकर अधिक से अधिक रन बनाना चाहता हूं, ताकि मैं टीम को आगे ले जा सकूँ.” आगे उन्होने कहा कि, “मैं कुछ साबित नहीं करना चाहता मैं बस भारतीय टीम की जीत के विषय में सोच रहा हूँ.”

दूसरे छोर पर रूट नंबर एक टीम के साथ मुकाबलों के लिए पूरी तरह तैयार हैं.
रूट ने कहा कि,” भारतीय टीम में बहुत से दाएं हाथ के बल्लेबाज है और राशिद हमें काफी मदद पहुंचाएगा.” 
विराट कोहली के बारे में रूट ने कहा कि,” हमें खुशी होगी अगर हम उसे जल्दी आउट कर सकें. वे टीम के मुख्य खिलाड़ी हैं. लंबे प्रारूप में उनसा कोई नहीं है. वे काफी प्रभावी हैं.”

Previous Article
Next Article

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *