इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने मौजूदा भारत बनाम इंग्लैंड सीरीज को “बॉयस बनाम मेन” बताया है. यहां बॉयस शब्द भारत के लिए और मेन शब्द का प्रयोग इंग्लैंड के लिए किया गया है. दूसरे मुकाबले में शर्मनाक हार के बाद उन्होने ऐसा कहा. गौरतलब है कि तीसरे मुकाबले में भारत को 159 रनों और एक पारी से हार का सामना करना पड़ा. हार के कारणों में मुख्य समस्या, भारतीय टीम का फाइट बैक न करना है. सभी खिलाड़ी हार से पहले ही हार मान ले रहे हैं.

 

स्काई स्पोर्ट्स के साथ एक इंटरव्यू में नासिर हुसैन ने कहा कि, ” इन परिस्थितियों में निश्चित ही इंग्लैंड बेस्ट है, पर ऐसे समय में सभी की आँखे भारत पर हैं. उन्हे लगातार मिल रही हारों के प्रति चिंतन करना पड़ेगा.”

 

” भारत यहां आने से पहले नंबर एक टीम थी, और यह शृंखला कांटे की टक्कर लग रही थी, पर दो मुकाबलों में ऐसा खेल दिखाकर उन्होने यह कहने पर मजबूर कर दिया है, कि यह मेन बनाम बॉयस था. उनके लिए सब कुछ गलत हो रहा है. “
हुसैन ने आगे भी काफी कुछ कहा, और भारत को चिंतन करने के लिए चेताया.

 

हुसैन ने अपने विचार रखते हुए कहा कि,” पहले मुकाबले में तो वे काफी देर तक टिक भी गए थे, पर दूसरे मुकाबले में अश्विन की उंगलियों में चोट लग गई और कोहली की पीठ में चोट लग गई, और मुकाबलों के बीच अभ्यास मैच भी नहीं.”

 

इंटरव्यू के एक पॉइंट पर उन्होने कहा कि, ” इंग्लैंड ने 4-0 की हार का यहां हिसाब चुकता किया है, और वे आगे भी इसी तरह जितना चाहेंगे. मैं देखा है कि पूरी टीम जीत के लिए भूखी है. वे सिरीज में हर दिन के बाद और अच्छे होते जायेंगे. “
गौरतलब है कि 2016 में जब इंग्लैंड भारत के दौरे पर आया था तब उसे 4-0 से हार का सामना करना पड़ा था.

 

ट्रेंट ब्रिज के तीसरे मुकाबले के बारे में नासिर ने कहा कि,” मुझे नहीं लगता कि इसमें इंग्लैंड को कड़ी टक्कर मिलेगी. वे ड्रॉ करवा सकते हैं पर जितना मुश्किल है. जेम्स एंडर्सन खतरा हैं वहां, और ब्रॉड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वहां 8-15 का स्पैल फेंका था. इंग्लैंड के खिलाड़ियों के पास काफी यादों को दुबारा रचने का मौका है. “