#METOO

मी टू अभियान की शुरुआत बॉलीवुड में तब हुई थी जब अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने दिग्गज अभिनेता नाना पाटेकर पर यौन उत्पीड़न के आरोपी लगाए थे| उनका कहना था कि नाना ने सेट पर एक फ़िल्म की शूटिंग के दौरान दुर्व्यवहार किया था| इसके बाद मी टू अभियान क्रिकेट जगत में भी कई खुलासे कर रहा है| गौरतलब है कि इसके अलावा कई राजनेता और अन्य क्षेत्र के लोगों का भी इसमें नाम आया है| गौरतलब है कि राजनेता एम जे अकबर और डाइरेक्टर साजिद खान उसके लेटेस्ट खुलासे हैं|

 

क्रिकेट जगत में ऐसा पहली बार भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के चेयरमैन राहुल जोहरी के खिलाफ हुआ| एक गुमनाम सूत्र से उनपर यौन शोषण के आरोप लगे| गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई सीओए ने राहुल जोहरी से सब कुछ स्पष्ट करने की मांग की है| उन्हे इसके लिए कोई निश्चित समय नहीं दिया गया है|

 

आरोप 

हरनिध कौर नाम की एक लेखिका ने ट्विटर पर लिखा कि वह अपनी पहचान नहीं बताना चाहती| लेखिका के अनुसार जिस लड़की के साथ राहुल ने यौन उत्पीड़न किया वह अपनी पहचान को गुमनाम रखना चाहती है ताकि उसे किसी भी प्रकार की कोई परेशानी का सामना न करना पड़े| पीड़ित ने कहा कि वह वाकये के वक़्त डिस्कवरी चैनल का हिस्सा थी|

 

लोधा कमिटी की सलाह मानने के बाद राहुल जोहरी भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के पहले सीईओ हैं| जोहरी ने इससे पहले डिस्कवरी चैनल के साथ 2001 से 2016 तक काम किया था| इसके बाद उन्हे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड का सीईओ बनाया गया|

हालांकि यह मामला बीसीसीआई से जुड़ा हुआ नहीं है तब पर भी सीओए ने इस मामले में गौर किया है क्यूंकि राहुल जोहरी बीसीसीआई से जुड़े हुए हैं| सीओए ने कहा कि राहुल को सफाई देने के लिए एक हफ्ते का समय दिया गया है| भविष्य में वे बीसीसीआई से जुड़े रहेंगे या नहीं यह उनके स्पष्टीकरण पर निर्भर करता है|

 

बोर्ड की प्रतिक्रिया

 

आईसीसी द्वारा आयोजित की गई चीफ एक्जीक्यूटिव मीटिंग में जोहरी भारत की ओर से हिस्सा लेंगे| यह मीटिंग 7 अक्टूबर से 18 अक्टूबर तक चलेगी| यह मीटिंग सिंगापुर में आयोजित की जाएगी| सीओए ने कहा कि राहुल जोहरी के पद और उनकी शक्तियों को कम नहीं किया गया है| इस बारे में उनके सफाई देने के बाद सोचा जाएगा|

मौजूदा वक़्त में जोहरी को मीटिंग में हिस्सा लेने से रोक दिया गया है क्योंकि सीओए उन्हे ज्यादा समय नहीं देना चाहती| जोहरी ने अपने स्पष्टीकरण के लिए 14 दिन की मांग की थी पर सीओए ने उन्हे केवल एक हफ्ते का ही समय दिया है|

 

सीओए किसी भी तरह से इस मामले के कारण बीसीसीआई का नाम नहीं जुड़ने देना चाहता| विनोद राय ने इस पर बयान देते हुए कहा कि उन्हे मीटिंग से बुला किया गया है ताकि वे अपनी ओर से सफाई देने पर काम कर सकें| बीसीसीआई के कार्यकारी सेक्रेटरी अमिताभ चौधरी राहुल जोहरी की मीटिंग में जगह लेंगे| यह सब सीओए के अध्यक्ष विनोद राय ने कहा|