क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद कई खिलाड़ी ऐसे हैं. जिन्होंने राजनीति का दामन थामा. इनमें से सबसे बड़ा नाम पाकिस्तान के महान ऑलराउंडर इमरान खान का है. जो फिलहाल, पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम भी हैं. वहीं, हमारे देश में सचिन तेंदुलकर, नवजोत सिंह सिद्धू, कीर्ति आजाद जैसे कई बड़े नाम हैं. जिन्होंने क्रिकेट के बाद राजनीति में भी खूब हाथ आजमाया और सफल भी रहे. इस लिस्ट में दो और नाम बहुत जल्द आने वाले हैं. जी हाँ, खबरों की मानें तो पूर्व भारतीय कप्तान MS Dhoni Gautam Gambhir आने वाले लोक सभा चुनाव में बीजेपी की ओर से लड़ते नजर आ सकते हैं.

चुनाव लड़ेंगे MS Dhoni Gautam Gambhir?

Sunday Guardian की एक रिपोर्ट के अनुसार, मीनाक्षी लेखी के काम से स्थानीय लोग खुश नहीं हैं. ऐसे में उनकी जगह Gautam Gambhir को आने वाले चुनाव में मुख्य चेहरा बनाया जा सकता है. इसके पीछे दो कारण है. पहला ये कि गंभीर के करोड़ों फैन हैं. और दूसरा ये कि गौतम गंभीर सोशल वर्क के लिए भी जाने जाते हैं. साथ ही गंभीर दिल्ली के ही रहने वाले हैं. तो लोग उनसे जल्दी कनेक्ट भी हो जाते हैं. ऐसे में गौतम गंभीर भाजपा के लिए तुरूप का इक्का साबित हो सकते हैं.

Pic Credit: News18.com

 

दूसरी ओर, महेंद्र सिंह धोनी के दुनिया भर में करोड़ों प्रशंसक हैं. झारखंड उनका अपना राज्य है और धोनी वहां के लोकल हीरो भी हैं. अभी हाल ही में अमित शाह धोनी से ‘संपर्क फॉर समर्थन’ कैम्पेन के दौरान मिले थे. जिसके बाद धोनी के बीजेपी में शामिल होने की हवाइयां भी उड़ने लगी.

रांची से चुनाव लड़ेंगे धोनी?

Sunday Guardian का हवाला देते हुए एक सीनियर बीजेपी नेता ने कहा, ” धोनी और गंभीर के करोड़ों फैंस हैं. और लोग उन्हें अपना रोल मॉडल भी मानते हैं. ये दोनों खिलाड़ी न सिर्फ अपने राज्य के लिए बल्कि पूरे देश के हीरो हैं. धोनी इस समय आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान हैं. और साउथ में भी उनका गजब का क्रेज है. ऐसे में दोनों खिलाड़ियों के पार्टी ज्वाइन करने से भाजपा को बहुत फायदा होगा.”

Pic Credit : DNA India

 

आपको बता दें, एमएस धोनी इस समय इंडिया के लिए खेल रहे हैं. उन्हें ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भी जाना है. इसके बाद चुनाव के समय में ही विश्वकप भी होना है. इन सबको देखकर ये कहना मुश्किल है कि धोनी चुनाव लड़ेंगे. लेकिन, गौतम गंभीर चूँकि टीम से बाहर चल रहे हैं. ऐसे में वह चुनाव लड़ सकते हैं. हालांकि, क्रिकेट और राजनीति एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. और दोनों पिचों पर कुछ भी हो सकता है.