पंत का टेस्ट में पदार्पण 

 

दिल्ली डेयरडेविल्स की ओर से आईपीएल खेलने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत का आत्मविश्वास सातवें आसमान पर है. बीते दिनों उन्हे टेस्ट टीम में बुलावा मिला है. पंत, जोकी इंडिया ए के साथ थे, वो अब आइपीएल में शानदार प्रदर्शन के बाद, टेस्ट में पदार्पण के लिए तैयार हैं. उन्होने इन सब का श्रेय अपने परिवार और अपने कोच को दिया है. बीस वर्षीय बल्लेबाज ने कहा है कि वे ध्यान पूर्वक खेलेंगे.

 

मैं सात वें आसमान पर हूँ : ऋषभ पंत 

 

पंत कहते है कि, “यह मेरे लिए एक बहुत ज्यादा और रोमांचक पल था जब मैंने सुना कि मुझे टीम में शामिल कर लिया गया है. मैं बहुत पहले से भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा बनना चाह रहा था. यह मेरे लिए किसी सपने के सच होने से कम नहीं था. मेरे लिए शब्दो में इस खुशी को जाहिर करना मुश्किल है. मेरे परिवार और मेरे कोच तारक सिन्हा ने गेम को समझने में मेरी काफी मदद की. वे चाहते थे कि मैं टेस्ट टीम का हिस्सा बनूं, और आज यह सच हो गया. “

 

शॉट का चुनाव अलग है 

 

सीमित ओवर के क्रिकेट और खेल के लंबे प्रारूप में अंतर पूछे जाने पर ऋषभ कहते है कि,” शॉट चुनाव के अतिरिक्त कोई बड़ा अन्तर नहीं है. टेस्ट क्रिकेट में फील्ड प्लेसमेंट अलग होती है, आप चारो ओर देखते है और खुद को उस परिस्थिति में ढाल लेते हैं. और सीमित ओवर में फील्ड से मतलब न रखते हुए आपको हिट करना ही पड़ता है.”
उन्होने बताया कि, ” मैंने टेस्ट क्रिकेट टीम के साथ अभ्यास करते हुए काफी अच्छा समय बिताया. यहां इंग्लैंड में गेंद घूमती है यह बात मुझे अभ्यास करके पता चली. “

 

द्रविड़ सर को शुक्रिया

 

पंत ने राहुल द्रविड़ को शुक्रिया करते हुए कहा कि,” वो हमेशा मेरी कमीया बताते है, वो बताते है कि मै कैसे आगे बढ़ सकता हूं. वे काफी सब्र रखते है, चाहे मैदान के अंदर हो या बाहर. वो हमेशा कहते है कि खेल पर मेहनत करो.मैं एक अक्रामक खिलाड़ी हूँ पर मुझे अलग अलग परिस्थिति में खुद को ढालना पड़ेगा. वे कहते है कि खेल के अनुसार तरीका बदलते रहना चाहिए. उनकी सलाह से मैंने काफी कुछ सीखा है. “