रविचंद्रन अश्विन ने पहले टेस्ट मैच में कुल चार विकेट झटके. अश्विन के लिए पहला दिन इससे अच्छा नहीं हो सकता था.

 

जब भारत ने 2014 में इंग्लैंड का दौरा किया था तब अपने बाकी साथियों की तरह ही अश्विन को भी विकेट के लिए काफी जद्दोजहद करनी पड़ी थी. उन्होने उस दौरे में दो मैच में केवल तीन विकेट लिए थे.
हालांकि अब तस्वीर बदल चुकी है. अश्विन ने पहले दिन कुल 60 रन देते हुए 4 विकेट लिए, उनकी मदद से भारत ने पहले दिन इंग्लैंड को नौ विकेट लेकर 285 रन पर रोक दिया.

 

 

अश्विन का रिकॉर्ड 
अश्विन का प्रदर्शन एडजस्टेन में किसी भी भारतीय स्पिनर के द्वारा सबसे अच्छी रही है. उनका फोरफर चौथे स्थान पर है, पर ऐसा करने वाले वे पहले गेंदबाज हैं.

 

अश्विन का प्रदर्शन क्यों है खास? 
एडजस्टेन की पिच ने हमेशा तेज गेंदबाजों का ही साथ दिया है, और स्पिन गेंदबाज काफी मुश्किल से यहां एक भी विकेट लेने में कामयाब होते हैं. पिच तेज गेंदबाजों को मदद करती है, फिर भी विराट ने अश्विन को शुरुआती दस ओवर में ही गेंद थमा दी. विराट के इस फैसले ने उनपर कई सवाल खड़े कर दिए, पर अश्विन ने आते ही कुक को चलता कर दिया. कोहली ने अश्विन की क्षमता को बाएं हाथ के बल्लेबाजों के खिलाफ भांप लिया था.

 

भारतीय स्पिन गेंदबाजों का एशिया के बाहर पहले दिन का रिकॉर्ड

 

6/94- बी. चंद्रशेखर बनाम न्यूज़ीलैंड, 1976
5/55- बिशन सिंह बेदी बनाम ऑस्ट्रेलिया, 1978
5/84- अनिल कुंबले बनाम ऑस्ट्रेलिया,2007
4/60- रविचंद्रन अश्विन बनाम इंग्लैंड, 2018
अश्विन ने कूक को आठवीं बार आउट किया 

 

 

 

अश्विन ने अपने दूसरे  ओवर की तीसरी गेंद पर कूक को चलता किया, यह आठवीं बार था जब बाएं हाथ के कुक को अश्विन ने आउट किया हो. सोशल मीडिया ने इसे सदी की गेंद करार दिया है. कूक के अलावा अश्विन ने स्टॉक, बटलर और ब्रॉड जैसे बड़े विकेट लिये.