भारतीय टीम के कार्यकारी कप्तान रोहित शर्मा को सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन (सी ओ ए) की मीटिंग में बुलाया गया है | गौरतलब है कि उनसे इस दौरान नए खिलाड़ियों के चयन और कांट्रैक्ट पर बातें होंगी|

 

रोहित, विराट और रहाणे के साथ मुंबई में जुड़ेंगे

रोहित शर्मा इस मीटिंग के लिए एम एस के प्रसाद (मुख्य चयनकर्ता), रवि शास्त्री (भारतीय कोच), भारतीय कप्तान विराट कोहली और उपकप्तान अजिंक्य रहाणे के साथ जुड़ेंगे| यह मीटिंग मुंबई में होगी|

 

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि हाँ वे मीटिंग के लिए यहां होंगे| इसमें टेस्ट और एकदिवसीय प्रारूप के उपकप्तानों का रहना जरूरी है|

विराट और शास्त्री पर प्लेयिंग एलेवन में गैर जरूरी फेर बदल के कारण उठा सवाल?

 

सीओए के अधिकारी विराट और शास्त्री से चयन प्रक्रिया और खिलाड़ियों को खिलाए जाते समय अलग अलग रवैया अपनाने पर सवाल करेंगे| यह सवाल प्लेयिंग एलेवन में विवादित फेर बदल के कारण उठे हैं|
Rohit Sharma

 

वहीं उपकप्तान रोहित शर्मा का टीम चयन पर काफी अलग विचार है| रोहित शर्मा के अनुसार यदि कोई खिलाड़ी टीम में अपनी जगह को लेकर सुरक्षित महसूस करता है तब ही वह अच्छा प्रदर्शन कर सकता है|

 

सीओए के प्रमुख, विनोद राय ने साफ साफ कहा कि सीओए भारतीय चयन प्रक्रिया के बारे मे बिल्कुल भी बात नहीं करेगी| पर तिहरा शतक लगाने वाले करूण नायर और सलामी बल्लेबाज मुरली विजय, विंडीज के खिलाफ नहीं खेल पाए थे, जो विवादित है|

सौरव गांगुली ने क्या कहा इस मामले में?

 

विराट कोहली और रवि शास्त्री पर, एकदिवसीय क्रिकेट में अजिंक्य रहाणे की गैर मौजूदगी के कारण सवाल उठ चुका है| यह सवाल पूर्व कप्तान सौरव गांगुली द्वारा उठाए गए थे| उन्होने कहा कि क्या ऐसा करने से रहाणे के आत्मविश्वास में कमी नहीं आएगी?

 

सौरव गांगुली ने कहा कि अजिंक्य रहाणे दोनों प्रारूप में मध्य क्रम में अपनी जगह बना सकते हैं| वे मध्य क्रम में बेहतरीन हैं| बिना प्लेयिंग एलेवन में शामिल किए बिना यह नहीं देखा जा सकता कि कौन सा खिलाड़ी कैसा प्रदर्शन करेगा| रहाणे एक बड़े स्तर के खिलाड़ी हैं और उन्हे टीम के सपोर्ट की जरूरत है| ऐसे किसी भी खिलाड़ी के साथ नहीं करना चाहिए| जब वह इतना अच्छा खिलाड़ी हो तब तो बिल्कुल भी नहीं|