ओबामा से प्रेरित रूट का “माइक ड्राप सेलिब्रेशन” 
रूट ने मैदान पर जीत का चौका लगाने के बाद, उत्साह में अपना बैट जमीन पर छोड़ दिया. रूट ने बड़े रैप आर्टिस्ट और कॉमेडियन के ट्रेंड को फॉलो करते हुए, बैट को किसी माइक की तरह जमीन पर छोड़ दिया. वे ऐसा तब करते है जब उन्हे लगता है कि उनके द्वारा किया गया प्रदर्शन अतुलनीय है. रूट ने लॉर्ड्स के मैदान पर एक नाबाद शतक लगाकर भारत को हराया था, और अपने उसी प्रदर्शन को दोहराते हुए रूट ने एक और नाबाद शतक लगाकर लीड्स में भी भारत को करारी शिकस्त दी. उनकी खुशी काफी जायज थी, पर क्या इस तरह के सेलिब्रेशन से कोहली को आपत्ति दिलाने की मंशा की गई है?
नए युद्ध की शुरुआत
गौरतलब है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली, जिन्हे अपने आक्रामक रवैये के लिए भी जाना जाता है, वे अगस्त में होने वाली शृंखला में रूट को जवाब देने के लिए पूरी तरह तत्पर होंगे. कोहली का व्यवहार पूर्व कप्तान गांगुली की तरह ही है.
अपने शुरुआती सालों में कोहली भी अपने शतक का सेलिब्रेशन ऐसे ही रवैये से किया करते थे. 2014 के इंग्लैंड दौरे में बुरी तरह से फैल होने के बाद, कोहली भी अच्छा प्रदर्शन कर क्रिटिकस का मूह बंद करने के लिए खासे उत्सुक होंगे. गौरतलब यह है कि कोहली के लिए 2014 का दौरा बहुत भयावह साबित हुई था.
इंग्लैंड जाकर इंग्लैंड को हराना काफी चुनौती भरा है, और कोहली के लिए यह पहला इंग्लैंड दौरा है. सितंबर 11 को पता चलेगा कि क्या कोहली जीतने में कामयाब होंगे या नहीं. अगर भारत यह शृंखला अपने नाम करता है, तब इंग्लैंड की शृंखला में हार का सिलसिला जारी रहेगा. इंग्लैंड ने बीती चार शृंखला हारी हैं.
रूट ने इसे “मैदान पर सबसे खराब अनुभव” करार दिया :
इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन ने उसी वक्त रूट को यह कह दिया था कि, ऐसा करके उन्होने अपनी खिल्ली उड़ाई है.
उन्होने कहा कि “यह कुछ ऐसा था जिसे करने के तुरंत बाद ही मुझे अपनी गलती का पछतावा हुआ.” ” यह मेरे द्वारा मैदान पर कि गई सबसे बुरी चीज है, क्रिटिक के समूहों के  द्वारा अच्छे और बुरे दोनों तरह की प्रतिक्रिया आ रही हैं.”
रूट ने आगे कहा कि, ” ऐसा सेलिब्रेशन करने के लिए कम से कम अगर मैं  गेंद को मैदान के बाहर भी मरता तो जायज था. यह सच में बहुत बुरा सेलिब्रेशन था.”