सचिन तेंदुलकर ने बताया कि उन्होने जब पृथ्वी शा को पहली बार देखा तब उन्होने उन्हे भविष्य का भारतीय सितारा घोषित कर दिया था.

सचिन ने यह एक खिलाड़ी के लिए कहा जिसकी उम्र महज 18 वर्ष है. गौरतलब है कि पृथ्वी शा ने अपने शानदार प्रदर्शन के दम पर चौथे टेस्ट मैच में इंग्लैंड के खिलाफ टीम में जगह बनाई है. उन्हे चौथे और पांचवे टेस्ट के लिए टीम में चुना गया है.
अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वाले सचिन तेंडुलकर ने ‘100 MB’ ऐप पर अपने विचार जाहिर किये और पृथ्वी शा के बारे में काफी कुछ कहा. पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने शा के साथ एक सत्र पूरा बिताया.

Image credit @ ICC

सचिन तेंदुलकर ने पृथ्वी शा को उनकी बैटिंग ग्रीप और स्टांस के बारे में सलाह दी. सचिन ने कहा कि किसी के कहने पर अपना बैटिंग स्टांस मत बदलना और कोई कहे तो उसे कहना कि सचिन तेंदुलकर से जाकर बात करो.

सचिन ने उस सलाह के पीछे का कारण भी बताया. रिकॉर्ड सौ शतक लगाने वाले बल्लेबाज ने कहा कि कोचिंग तक तो ठीक है पर किसी खिलाड़ी को उसके मूल तौर से भटकाना काफी गलत है. उन्होने आगे कहा कि हर तरह से रन बनाना भगवान द्वारा दी गई अनमोल प्रतिभा होती है और पृथ्वी शा एक विशेष खिलाड़ी हैं.

पृथ्वी शा के साथ सत्र बिताने के बाद उन्होने कहा था कि वह भविष्य के सबसे उम्दा खिलाड़ी हैं. सचिन की भविष्यवाणी ने बस दस वर्षो का समय लिया और पृथ्वी शा को राष्ट्रीय टीम में चुन लिया गया.

मुंबई के सलामी बल्लेबाज ने अपने शुरुआती दौर में रिकॉर्ड 546 रन बनाये थे और उसके बाद अंडर 19 विश्वकप जीता था. उन्होने रणजी और दलीप ट्रॉफी में शतक बनाए. उन्होने भारतीय ए टीम के साथ भी काफी रन बनाए.

हर स्तर पर अच्छे प्रदर्शन के बाद बल्लेबाज को राष्ट्रीय टीम में जगह दी गई. यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या 30 अगस्त से शुरू होने वाले टेस्ट मुकाबले में उन्हे प्लेयिंग एलेवन में जगह मिलेगी.