एशिया कप में 25 सितंबर को पाकिस्तान और बांग्लादेश सेमीफइनल में एक दूसरे का आमना सामना करेंगे। इस मैच मे जीतने वाले को सीधे फाइनल मे जगह मिलेगी, अब तक ये मैच जीतने के लिए पाकिस्तान फवौरिटेस है लेकिन अगर बांग्लादेश ये मैच जीत जाता है तो यह हैरानी की बात नहीं होगी |

बांग्लादेश में विरोधी टीम को बाहर करने की क्षमता है जो श्रीलंका के खिलाफ उनके मैच में दिखाई दे रहा था, लेकिन सवाल यह है कि क्या वे अब ऐसा परफॉर्म कर पायगे जब ऐसी पर्फोमन्स की सबसे ज्यादा जरुरत है।

दोनों टीमों में से पाकिस्तान एक स्ट्रांग टीम है लेकिन इन् 3 कारणो की वजह से पाकिस्तान हार भी सकता है ।

1. बल्लेबाज़ी सबसे ज्यादा शोएब मलिक पर निर्भर है-

यह एक खुला रहस्य है कि फिलहाल, पाकिस्तानी बल्लेबाजी उनके अनुभवी खिलाडी शोएब मलिक पर निर्भर है।

सलामी बल्लेबाज अनियमित रहे हैं,मिडिल आर्डर बल्लेबाजी करने मे असफल रहे वही बाबर आजम जैसे बल्लेबाज अपनी पूरी योगयता के अनुसार बल्लेबाजी न कर सके । इस तरीके से अगर देखा जाये तो अगर बंगलादेश मलिक को जल्दी आउट कर पाया तो पाकिस्तान की बाकी की बल्लेबाजी भी जल्दी खत्म हो सकती है |

2. स्लीपरी फ़ील्डिंग-

इस टूर्नामेंट को अगर देखा जाये तो पाकिस्तान से ज्यादा किसी भी टीम ने केचिस नहीं छोड़ी है और हैरानी की बात ये है कि उनमें सुधार का कोई भी संकेत नहीं है।

पाकिस्तान के बॉलर्स बांग्लादेश के बैट्समैन से बेहतर है लेकिन पाकिस्तान की फील्डिंग बेहद्द निराशाजनक है। इस तरह के एक महत्वपूर्ण मैच में, पाकिस्तान हार का सामना कर सकता है क्यूंकि उनकी फील्डिंग कमजोर है ।

3. स्पिनरों की विशेषता

पाकिस्तान का स्पिन गेंदबाजी शदाब खान पर निर्भर है, जिन्होंने अब तक तीन मैचों में सिर्फ तीन विकेट लिए हैं और उनका हर विकेट 30.33 रनों पर आया है।

दूसरी तरफ, बांग्लादेश के स्पिन मास्टरो शाकिब-उल-हसन ने प्रति ओवर केवल 4.56 रन ली और चार गेम में सात विकेट लिए हैं।

शाकिब न केवल महत्वपूर्ण समय पर विकेट लेते हैं बल्कि वह मिडिल ओवर्स में खेल को भी कंट्रोल करते हैं। हालांकि शदाब अपने लेग स्पिन के साथ ज्यादा नुकसान पहुंचाने में नाकाम रहे हैं।

स्पिन गेंदबाजी की विशेषता में अंतर मैच के भाग्य का फैसला करेगा।