सम्मान के साथ क्रिकेट जगत को करना चाहता हूँ अलविदा:मोहम्‍मद हफीज

अपने ख़राब दौर को झेल रहे पाकिस्तानी सलामी बल्लेबाज मोहम्मद हफीज ने मंगलवार को अबुधाबी में अपना 55वां मैच खेलने के दौरान प्रेस वार्ता में कहा कि वह न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्तमान टेस्ट मैच के बाद टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे. पाकिस्तानी अखबार द डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, 38 वर्षीय हफीज ने चयनकर्ताओं को अपने फैसले से अवगत करा दिया है. जिस पर पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने भी मोहर लगा दी हैं.

 

 

 

इस 38 वर्षीय बल्लेबाज ने पिछले महीने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दुबई में शतक जमाया था, लेकिन इसके बाद वह सात पारियों में केवल 66 रन ही बना पाए हैं. उन्होंने अब तक 3644 रन बनाए हैं जिसमें दस शतक और 12 अर्धशतक शामिल हैं.

 

हफीज ने मंगलवार को संन्यास की घोषणा करते हुए कहा, “संन्यास की घोषणा करते हुए मुझे खुशी हो रही है कि मैंने अपने करियर में कड़ी मेहनत की।”

 

 

पहले भी आई थी संन्यास की खबरें

 

हफीज को इस साल पाकिस्‍तान क्रिकेट बोर्ड ने केंद्रीय अनुबंध सूची में नीचे कर दिया था. इसके बाद से उनके खेल पर भी असर देखने को मिला है. उस समय उन्‍होंने संन्‍यास लेने के बारे में भी सोचा था लेकिन पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्‍तर और अपनी पत्‍नी के कहने पर संन्‍यास का फैसला टाल दिया था.

 

एक फोन कॉल के बाद बदला हफीज ने अपना  फैसला

 

दुबई  इंटरनेशल क्रिकेट ग्राउंड में खेले जा रहे पहले मुकाबले में मोहम्मद हफीज ने ओपनिंग करते हुए शानदार 126 रनों की शतकीय पारी खेली. इस टेस्ट क्रिकेट में उनका 10वां शतक था.पहले दिन की खेल की समाप्ति के बाद मोहम्मद हफीज ने कहा, ‘पिछले कुछ महीनों में मैं कई परेशानियों से गुजर रहा हूँ .

 

मैं कुछ बेहद कठोर कदम उठाने जा रहा था लेकिन मेरी पत्नी ने मुझे रोक लिया.  उस मुश्किल वक्त में शोएब अख्तर भाई ने मुझे फोन करके संन्यास पर फैसला लेने से रोका और समझाया कि अभी बहुत कुछ बाकी है.

 

 

मोहम्मद हफीज अब चाहते हैं कि वह सम्मान के साथ अपने क्रिकेट करियर  से विदा ले . हालांकि, अंत में उन्होंने काफी उतर चड़ाव का सामना किया.लेकिन वह अच्छी यादों के साथ अलविदा लेना चाहते हैं.

 

 

 

 

Previous Article
Next Article

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *