इसी साल मार्च में साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेले जा रहे टेस्ट मैच के दौरान गेंद से छेड़छाड़ करने के बाद बैन किए गए ऑस्ट्रेलिया के तीन खिलाड़ियों को कुछ राहत मिल सकती है। खबरों के अनुसार क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया इस बात पर विचार कर रहा है।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से ऑस्ट्रेलिया के ही खिलाड़ियों के यूनियन ने मांग रखी है की बॉल टेम्पेरिंग के बाद बैन झेल रहे स्टीव स्मिथ, डेविड वार्नर और कैमरन बेनक्राफ्ट पर लगे बैन को तत्काल प्रभाव से हटा लिया जाए। इसी मांग के बाद ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड ने इस पर विचार करने का फैसला लिया है।

 

इन तीन खिलाड़ियों के बैन के बाद से ही ऑस्ट्रेलिया टीम और बोर्ड में काफी उथल – पुथल मैची हुई है। बोर्ड के अंदरूनी कलह भी बढ़ने की खबर समय समय पर आती रही है। हाल ही में ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड के अधिकारी मार्क टेलर ने भी अपने पद से त्यागपत्र दे दिया है।

ज्ञात ही की उस समय टीम की कप्तानी कर रहे स्टीव स्मिथ पर 12 महीने का बैन और टीम के उप कप्तान रहे डेविड वार्नर पर भी 12 महीने का बैन ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड द्वारा लगाया गया था। इसके अलावा इस घटना को अंजाम देने वाले ऑस्ट्रेलियाई टीम के ओपनर कैमरन बेनक्राफ्ट पर 9 महीने का बैन लगाया गया था।


बैन खिलाड़ियों को कुछ T20 टुर्नामेंट और घरेलू स्तर के मैच में खेलने की मंजूरी मिली थी जिसके बाद ये खिलाड़ी कुछ लीग में खेलते भी नज़र आए थें। हालांकि इन खिलाड़ियों को ऑस्ट्रेलिया के सबसे बड़े घरेलू टुर्नामेंट शैफील्ड शील्ड और ऑस्ट्रेलिया के T20 लीग, बिग बैश में खेलने से बैन कर दिया गया है।

वार्नर और स्मिथ पर अधिक समय का बैन लगा था क्यों की इस जुर्म का मुख्य आरोपी और साजिशकर्ता इन दोनो को ही माना गया था। इस प्रकरण में मैच के दौरान फील्डिंग कर रहे बेनक्राफ्ट को गेंद पर स्टिकर की सहायता से गेंद के साथ छेड़छाड़ करते देखा गया था। यह सारा मामला कैमरे की नज़र से नही बच पाया और ऑस्ट्रेलिया टीम की कड़ी आलोचना हुई थी।