महिला T20 विश्व कप के पहले मुकाबले में भारतीय टीम ने न्यूज़ीलैंड की टीम को ज़बर्दस्त तरीके से मात देते हुए अपने अभियान की शुरुआत जीत के साथ की है। इस मैच में भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर ने न्यूज़ीलैंड के सभी गेंदबाज़ों की जम कर खबर ली और शानदार शतक जड़ते हुए भारतीय टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई।

इस मुकाबले में टॉस जीत कर भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर ने पहले बल्लेबाज़ी करने का निर्णय लिया। पहले बल्लेबाज़ी करने आई भारतीय टीम के लिए शुरुआत ठीक नही रही और इसे पहला झटका सिर्फ दूसरे ओवर में ही लग गया। ओपनर तानिया भाटिया केवल 9 रन बना कर टीम के 9 रन के स्कोर पर ही आउट हो गयीं। स्मृति मंधाना पर सब की निगाहें टिकी हुई थी लेकिन यह भी केवल 2 रन बना कर चलती बनी।

पॉवरप्ले तक मैच में न्यूजीलैंड का दबदबा रहा। छठे ओवर तक भारत अपने तीन प्रमुख बल्लेबाज़ों को खो चुका था और  टीम का स्कोर सिर्फ 40 रन था। लेकिन पॉवरप्ले के बाद कौर ने अपनी बल्लेबाज़ी के दम पर मैच का पासा ही पलट कर रख दिया। हरमनप्रीत कौर ने चौथे वीकेट के लिए जेमिमा रोड्रिक्स के साथ अच्छी साझेदारी की।

एक छोड़ से हरमनप्रीत कौर ने ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी करते हुए रन रेट को बेहतर करते हुए टीम को अच्छी स्तिथि में पहुँचा दिया। कौर ने सिर्फ 51 गेंद का सामना करते हुए 7 चौके और 8 गगनचुंबी छक्कों की मदद से 103 रन की लाजवाब पारी खेलीं। रोड्रिक्स ने भी 59 रन की पारी खेली। भारतीय टीम ने 20 ओवर में 5 वीकेट खो कर 194 रन बनाए। न्यूज़ीलैंड की ओर से ताहूहू ने 2 विकेट हासिल किए।

 

195 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूज़ीलैंड की टीम ने पारी की बेहतरीन शुरुआत की और टीम लक्ष्य की ओर बढ़ती दिख रही थी। पहले विकेट के लिए 50 रन से अधिक की साझेदारी हो चुकी थी।यह भारतीय टीम के लिए और मुश्किल खड़ी करता इससे पहले ही न्यूज़ीलैंड को पहला झटका 52 के स्कोर पर हेमलता ने दिया।

पहला विकेट गिरते ही न्यूज़ीलैंड की टीम पर बड़े लक्ष्य के कारण तेज़ी से रन बनाने का दबाव बढ़ता ही गया। इस दबाव को टीम नही झेल पाई जिसका नतीजा रहा की टीम भारतीय गेंदबाज़ों के आगे बेबस नज़र आई। एक के बाद एक विकेट जाते रहें और अन्तः न्यूज़ीलैंड की टीम 20 ओवर में अपने 9 विकेट खो कर 160 रन ही बना पाई। इस तरह ये मैच 34 रन से भारत के नाम रहा।