December 17, 2018
| On 3 महीना ago

Pro kabbadi League 2018: बेहद पेचीदा है प्लेऑफ के लिए जंग

By Shubham Mishra

Pro Kabbadi League के छठें सीजन का अबतक का सफर बेहद शानदार रहा है। प्रो कबड्डी का यह सीजन बेहद उलटफेरों से भरा रहा है। युवाओं खिलाडियों ने जहां अपने प्रदर्शन से सबको आश्चर्यचकित किया है। वही अनुभवी खिलाड़ियों पर खेला कई टीमों का दांव खोखला साबित हुआ है। छठे सीजन के प्लेऑफ में खेलनें वाली टीमों के नाम लगभग तय ही हो चुके है। लेकिन अभी भी कुछ टीमों के बीच जंग जारी है। आइए एक नजर ड़ालतें है प्लेऑफ की मजबूत दावेदारों पर..

जोन ए में हो चुकी है स्थिति साफ

प्रो कबड्डी लीग के छठे सीजन के जोन ए में प्लेऑफ में पहुंचने की स्थिती बेहद स्पष्ट नजर आ रही है। जोन ए में से प्लेऑफ में खेलनें के लिए तीन टीमों के नाम पर मोहर लग चुकी है। यूं मुंबा गुजरात फॉर्च्यून जायंट्स, दंबग दिल्ली ने अपना प्लेऑफ में स्थान पक्का कर लिया है।

वही जोन ए में मौजूद पुणेरी पलटन, हरियाणा स्टीलर्स, जयपुर पिंक पैंथर्स का प्लेऑफ में पहुंचने के दरवाजे अब पूरी तरह से बंद हो चुके है। जयपुर की टीम द्धारा खेलें गए यूं मुंबा के खिलाफ ड्रॉ ने ग्रुप ए की स्थिती को साफ कर दिया था।

यह भी पढ़े – मुख्य खिलाड़ियों की चोटों ने किरकिरा किया है छठे सीजन का रोमांच

जोन बी में जारी जद्दोजहद

वही जोन बी में अभी कौन सी टीम प्लेऑफ में पहुंचेंगी, यह कहना बेहद मुश्किल है। एक बेंगलुरु बुल्स को छोड़ दे तो बाकी टीमों की स्थिती अभी भी स्पष्ट नहीं है। हालांकि दिग्गजों से सजी अजय ठाकुर की टीम प्लेऑफ की दौड़ से बाहर हो चुकी है। वही यूपी योद्धा को भी प्लेऑफ में पहुंचने के लिए किसी चमात्कार की आवश्यकता होगी।

लेकिन पटना पाइरेट्स, बंगाल वॉरियर्स, तेलुगू टाइटंस के बीच जंग जारी है। हालांकि स्थिती बंगाल और पटना की ज्यादा मजबूत नजर आती है। तेलुगू को यहां से प्लेऑफ में कदम रखनें के लिए हर मैच में जीत दर्ज करनी होगी। वही दुआ भी करनी होगी की बंगाल की टीम अपना होम लेग खराब खेलें।

नंबर एक की लड़ाई

जोन ए में यूं मुंबा और गुजरात फॉर्च्यून जायंट्स के बीच पहले स्थान को लेकर जंग जारी है। दोनों ही टीमों ने सीजन में 15-15 जीत दर्ज की है। लेकिन गुजरात की टीम ने यूं मुंबा से एक मैच कम खेला है। प्रो कबड्डी के नियमों के अनुसार जो टीम पहले स्थान पर रहती है, उसको फाइनल में पहुंचने के लिए दो मौके मिलतें है।

Shubham Mishra