जब अकरम ने सचिन को ट्रॉल किया 
वसीम अकरम और सचिन तेंदुलकर उन दिग्गज खिलाड़ियों में से है जिन्होने एक पूरी पीढ़ी को प्रेरित किया. अपने करियर के दौरान भी दोनों ही खिलाड़ी कई यादगार किस्सों में शामिल रहे.

 

सचिन तेंदुलकर ने अपना पदार्पण 16 की उम्र में किया था और अपने पहले मुकाबले में ही उन्हे पाकिस्तान के खिलाफ तेज गेंदबाजी का सामना करना था. गौरतलब है कि उस वक़्त पाकिस्तान के गेंदबाजी क्रम में वसीम अकरम भी शामिल थे.

 

पाकिस्तान बनाम भारत के मुकाबलों में अक्सर स्लेजिंग होती है और सचिन तेंदुलकर भी इससे बचे नहीं.
एक इंटरव्यू के दौरान, अकरम ने बताया कि 1989 में सचिन के पदार्पण मुकाबले के दौरान पूरी टीम ने उनकी स्लेजिंग की थी.
उस वक़्त तक अकरम अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में अपनी साख जमा चुके थे, और सचिन युवा बल्लेबाज थे.

 

पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने सचिन की प्रतिभा के बारे में सुना था और इसी कारण उनके सब्र को जांचने के लिए यह किया गया.

 

अकरम ने एक इंटरव्यू में कहा कि,
“सचिन के बारे में हमने काफी कुछ पढ़ा था. वे 16 वर्षीय थे पर जब वे बल्लेबाजी करने आए तो 14 वर्ष के लगे और तब मैंने उनसे पूछा कि, मम्मी से पूछ के आया है?.” 
इसी सत्र के दौरान मिस्बाह उल हक, अब्दुल कादिर, हरभजन सिंह, मोहम्मद अज़हर, रविचंद्रन अश्विन, मुथैया मुरलीधरन और मदन लाल ने भी अपने विचार साझा किए.
भज्जी ने एक रोचक किस्सा बताया 

 

भारतीय दिग्गज स्पिनर हरभजन सिंह ने अकरम के साथ हुआ एक किस्सा बताया. उन्होने कहा कि अकरम की गेंद को चौका मार कर उन्होने माफी मांगी थी.

 

हरभजन ने कहा कि,
” मैंने वसीम भाई को हमेशा अपना हीरो माना है. मैं जब अपना चौथा या पांचवा टेस्ट मैच खेल रहा था तब वे मेरे खिलाफ थे. मैं उनकी गेंद पर चौका लगाया और वे अपनी गेंदबाजी वाली जगह की ओर जाते हुए बोले कि, ‘तेरी…’ और जवाब में मैंने कहा कि ‘पाजी गलती हो गई’.”