भारतीय टीम की पूर्व कप्तान और द वॉल के नाम से मशहूर राहुल द्रविड़ गुरुवार को आईसीसी हॉल ऑफ फेम में शामिल हो गए है। विंडीज के खिलाफ पांचवें वनडे मुकाबलें की शुरुआत से पहले सुनील गावस्कर ने द्रविड को इस सम्मान से नवाजा।आईसीसी के हॉल ऑफ फेम में शामिल होने वाले द्रविड़ पांचवें भारतीय खिलाड़ी है।

 

द वॉल हॉल ऑफ फेम में शामिल

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और अंडर 19 टीम के हेड कोच राहुल द्रविड़ आईसीसी के हॉल ऑफ फेंम में शामिल हो गए है। क्रिकेट से जुड़ी महान हस्तियों के इस स्पेशल ग्रुप में शामिल होने वाले द्रविड़ पांचवें भारतीय है। वही द्रविड़ हॉल ऑफ फेम में शामिल होने वाले विश्व के 87वें क्रिकेटर है। भारत और विंडीज के खिलाफ पांचवें वनडे मैच की शुरुआत से पहले सुनील गावस्कर ने ग्रीनफील्ड के मैदान पर द्रविड़ को आईसीसी हॉल ऑफ फेम की प्रतिकात्मक कैप प्रदान की। गावस्कर ने द्रविड़ को बधाई देते हुए उनको इस ग्रुप में शामिल होने का हकदार बताया। । द्रविड़ इस समय भारतीय अंडर 19 टीम और इंडिया-ए के हेड कोच है। द्रविड की कोंचिग में ही भारतीय अंडर 19 की टीम ने वर्ल्ड कप अपने नाम किया था।

 

पांचवें भारतीय है द्रविड़

आईसीसी के हॉल ऑफ फेम में शामिल होने वाले द्रविड़ पांचवें भारतीय क्रिकेटर है। द्रविड़ से पहले बिशन सिंह बेदी, सुनील गावस्कर, कपिल देव, अनिल कुंबले इस ग्रुप में शामिल भारतीय क्रिकेटर है। द्रविड़ भारीतय टीम के सबसे कामयाब बल्लेबाजों में से एक रहे है। द्रविड़ ने अपने करियर को 2012 में अलविदा कहा था, उन्होने आखिरी टेस्ट मैच ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध एडिलेड में खेला था। द्रविड़ ने अपने करियर की आखिरी इनिग्स में 25 रनों की पारी खेली थी। उसके बाद से राहुल अंडर 19 टीम के हेड कोच के तौर पर भारतीय टीम से जुड़े रहे है। राहुल द्रविड़ को भारतीय टीम के बल्लेबाजी सलाहकार के तौर पर नियुक्त किया गया था, पर बाद में उनको हटा दिया गया।

 

यह भी पढ़े – Rahul Dravid offically inducted in icc hall of frame

 

 

भारतीय बल्लेबाजी के स्तंभ रहे है द्रविड

राहुल द्रविड ने एक बल्लेबाज के तौर कई रिकॉर्डस अपने नाम किए। राहुल ऐसे पहले बल्लेबाज थे जिन्होने विश्व की हर टेस्ट के खिलाफ शतक लगाया था, यही नही द्रविड द्रविड़ ऐसे पहले बल्लेबाज थे जिन्होने नंबर तीन की पोजिशन पर बल्लेबाजी करते हुए दस हजार रन पूरे किए थे। द्रविड़ ने भारतीय टीम के लिए कई ऐसी पारी खेली जिसके चलते भारतीय टीम ने कई ऐतिहासिक जीत दर्ज अपने नाम की। द्रविड़ टेस्ट में नंबर तीन की पोजिशन पर भारतीय टीम के सबसे सफल बल्लेबाज रहे है।

 

शानदार था द्रविड़ का सफर

भारत टीम की बल्लेबाजी की दीवार कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ ने अपने अंतरराष्टीय करियर की शुरुआत 3 अप्रैल 1996 को की थी। द्रविड़ ने अपनी पहली शतकीय पारी 1997 में पाकिस्तान के खिलाफ खेली थी। द्रविड़ ने भारतीय टीम के लिए 164 टेस्ट मैच खेले जिसमें उन्होने 52 की औसत से 13,288 रन बनाए जिसमें 270 रन उनका सर्वाधिक स्कोर रहा। वही द्रविड़ ने 344 वनडे मैच खेलते हुए 10,889 रन बनाए जिसमें उन्होने 12 शतक तो 83 अर्धशतक लगाए।