प्रो कबड्डी लीग का छठा सीजन अब तक शानदार और रोमांच से भरा रहा है। छठे सीजन में काफी बड़े उलटफेर भी देखने को भी मिले है। तो वही बिना किसी स्टार प्लेयरों के खेल रही यू मुंबा की टीम ने अपने प्रदर्शन से सभी का दिल जीता है। तो वही पिछले साल की चैंपियंन पटना पाइरेट्स की टीम अभी तक इस सीजन में सबसे नीचे नजर आयी है।

 

यू मुंबा ने जीता है सबका दिल

यू मुंबा की टीम को इस सीजन के शुरुआत में सबसे कमजोर टीम माना जा रहा था।  टीम के पास कोई भी स्टार खिलाड़ी मौजूद नही होने के बावजूद भी टीम ने इस सीजन में अबतक कमाल का प्रदर्शन कर के दिखाया है।  युवा खिलाड़ियों से सजी यू मुंबा की टीम ने इस सीजन में अपने प्रदर्शन से सभी को आर्श्चय चकित कर दिया है।  टीम के युवा रेडर सिद्धार्थ देसाई इस सीजन में यू मुंबा के लिए नई खोज साबित हुए है। सिद्धार्थ ने इस सीजन में अबतक 7 मैचों में 98 पॉइंट अपने नाम कर चुके है। उनसे आगे सिर्फ नितिन तोमर ही है।

वही यू मुंबा के टीम के युवा खिलाड़ी अभिषेक सिंह ने भी अपने प्रदर्शन से इस सीजन छाप छोड़ी है। अभिषेक ने ना सिर्फ रेड में बल्कि डिफेंस में भी अपनी टीम को ढ़ेरों पॉइंट दिलाए है। यू मुंबा की टीम के प्रदर्शन का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि टीम ने इस सीजन सिर्फ एक मैच में ही हार का मुंह देखा है। फैजल आत्रचली के अगुवाई में खेल रही यु मुंबा इस सीजन हर टीम पर भारी नजर आयी है।

 

तीन बार की चैंपियंस इस सीजन फिसड्डी

पिछले तीन बार की चैंपियंन रही पटना पाइरेट्स की टीम इस सीजन जीत के लिए जूझती नजर आयी है। टीम के ना तो रेडर चल पाए है, ना ही टीम के डिफेंस ने कोई कमाल दिखाया है। डुबकी किंग प्रदीप नरवाल की अगुवाई में खेल रही पटना पाइरेट्स की टीम प्रदीप पर हद से ज्यादा निर्भर नजर आयी है। प्रदीप के नही चलने पर टीम का रेडिंग डिपार्टमेंट पॉइंट दिलाने के लिए जूझता ही दिखाई दिया है। टीम के डिफेंस में भी बड़े-बड़े नाम होने के बावजूद भी टीम डिफेंस में भी कुछ खास नही कर पाई है। टीम ने अपने घरेलू परिस्थिती में खेले मैचों में भी बेहद निराशाजनक प्रदर्शन किया है। टीम का प्रदर्शन अगर इस सीजन इसी तरह का रहा तो यकीन मानिए इस सीजन प्रो कबड्डी को एक नयी चैंपियंन टीम मिल सकती है।

 

बड़े-बड़े योद्धा छठे सीजन में ढ़ेर

प्रो कबड्डी के छठे सीजन में अबतक काफी कुछ देखने को मिला है। पिछले सीजन रेड में टॉप करने वाले अनुप कुमार और मोनू गोयत जैसे खिलाड़ी इस सीजन एक एक पॉइंट को तरसते नजर आ रहे है। अनुप कुमार ने तो इस सीजन में अबतक मात्र एक ही सुपर टेन लगा पाए है। वही मोनू गोयत कप्तानी के भार में दबे नजर आ रहे है। सिर्फ रेडर ही नही कई ऐसे डिफेंडर भी इस सीजन अपने खेल से इंसाफ नही कर पाए है।