HOCKEY WORLD CUP 2018: इन 6 खिलाड़ियों पर टिकी हैं सभी की निगाहें

आगामी हॉकी वर्ल्ड कप टूर्नामेंट 2018 का आगाज हो चुका हैं. 28 नवंबर से इस सीरीज का पहला मुकाबला हॉकी फैंस को देखने को मिलेगा. ओडिशा हॉकी वर्ल्ड कप में विभिन्न देशों की टीमों के कई बेहतरीन और लोकप्रिय खिलाड़ी हिस्सा लेने जा रहे हैं. लेकिन सबसे दिलचस्प बात ये है कि टूर्नामेंट में आगामी पीढ़ी के कई उभरते सितारे खेलेंगे. ऐसे में हॉकी प्रशंसकों की नजर छह ऐसे युवा खिलाड़ियों पर रहेगी. जो वर्ल्ड कप के जरिए वैश्विक रूप से अपने प्रदर्शन से सभी पर छाप छोड़ने वाले है.

 

6 प्रतिभाशाली नए चहरों को मिली जगह 

वर्ल्ड नम्बर 5 भारत के 19 वर्षीय दिलप्रीत सिंह उन्हीं में से एक खिलाड़ी हैं. पिछले साल मलेशिया में आयोजित अंडर-21 सुल्तान जोहोर कप टूर्नमेंट में दिलप्रीत ने 6 मैचों में 9 गोल दागकर अपनी क्षमता का परिचय दिया था. इसके अलावा, इसमें वर्ल्ड नम्बर 1 में ऑस्ट्रेलिया टीम के 20 वर्षीय जक हार्वी का नाम भी शामिल है.

 

तीन बार के ओलिंपियन गोर्डोन पियर्स के पोते हार्वी के खून में ही हॉकी दौड़ती है. पिछले साल हुए ओडिशा हॉकी वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया के डिफेंस को मजबूत करने में हार्वी ने अहम भूमिका निभाई थी. वर्ल्ड नम्बर-2 अर्जेंटीना के 21 वर्षीय माइको कासेला भी किसी से कम नहीं हैं.  अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 35 मैच खेल चुके कासेला अर्जेंटीना की राष्ट्रीय टीम में शामिल सबसे कम उम्र के खिलाड़ी हैं. इसी श्रृंखला में नंबर 4 पर 20 साल के नीदरलैंड्स के खिलाड़ी जोरिट क्रून हैं, जिनके पास इतनी कम उम्र में ओलिंपिक खेलों का अनुभव है.

 

जिस समय उन्होंने ओलम्पिक में कदम रखा वह मात्र 18 साल के थे. क्रून को रियो ओलिंपिक खेलों के लिए चुने जाने के फैसले से काफी हलचल मच गई थी. कई लोगों ने इसे काल्डास के दांव के रूप में देखा, लेकिन क्रून के प्रदर्शन ने सभी अलोचकों के मुंह पर ताला लगा दिया.  अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 56 मैच खेल चुके क्रून ने राष्ट्रीय टीम में अपनी अहम जगह बना ली है. हालांकि, अभी उनका करियर काफी लंबा है.

 

इनमें भी है जोश

वर्ल्ड 6 पर जर्मनी की राष्ट्रीय टीम में अपनी जगह बनाने वाले टिम हेर्जबुर्क हैं. 21 वर्षीय टीम को लखनऊ में हुए उत्तर प्रदेश जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप में सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी के पुरस्कार से नवाजा गया था. अपने करियर में 54 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेल चुके टिम को पिछले साल घुटने की चोट के कारण लंबे समय तक मैदान से बाहर रहना पड़ा. लेकिन, अब वह वापसी कर चुके हैं और वर्ल्ड हॉकी में अपनी छाप छोड़ने के लिए तैयार हैं.

 

ओडिशा हॉकी वर्ल्ड कप में किसी भी टीम के लिए परेशानी खड़ी करने में स्पेन के 22 वर्षीय खिलाड़ी एनरीक गोंजालेज पूरी तरह से सक्षम हैं। वर्ल्ड नम्बर 8 स्पेन की राष्ट्रीय टीम में वह अपनी बेहतरीन तेजी और हॉकी स्टिक के साथ अपने शानदार कौशल के लिए जाने जाते हैं.

22 साल की उम्र में वह 73 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं.  इस टूर्नामेंट  के छह उभरते खिलाड़ियों में शामिल एनरीक ने सबसे अधिक अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले हैं. उन्हें भी लखनऊ में हुए जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप में सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी के पुरस्कार से नवाजा गया था.

Next Article

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *