पाकिस्तान में ICC के खिलाफ लगे नारे, सरफराज ने मानी अपनी गलती

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान सरफराज अहमद ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी पर नस्लीय टिप्पणी करने पर एक बार फिर से सफाई पेश की है। सरफराज ने इस मामले में कहा कि उन्होंने इससे सीख ली है। वहीं 4 मैचों का बैन झेल रहे सरफराज वापिस अपने देश लौट गए हैं।

कराची में लगे ICC के खिलाफ नारे

सरफराज के समर्थन में कराची हवाईअड्डे के बाहर सैकड़ों समर्थक खड़े थे। इन समर्थकों ने उनके समर्थन में नारे लगाए और आईसीसी के फैसले का विरोध किया। आपको बता दें कि इससे पहले पीसीबी ने भी निराशा जताई थी।

आईसीसी ने एंडिले फेहलुकवायो के खिलाफ नस्लीय टिप्पणी के कारण सरफराज अहमद पर 4 मैचों का बैन लगाया है। जिसके बाद वो दक्षिण अफ्रीका से पाकिस्तान लौट आए है। स्वदेश लौटने के बाद उन्होंने कहा कि वो अपनी गलती का अहसास करते हैं। इसलिए उन्होंने इस प्रकरण के तुरंत बाद सार्वजनिक रूप से माफी मांगी। उन्होंने मीडिया से कहा कि ये गलती थी और मैंने इससे सीख ली है।

PCB ने जताई निराशा

वहीं पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने भी आईसीसी के फैसले पर निराशा जताई थी। सरफराज ने इस समर्थन के लिए बोर्ड का भी धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि पीसीबी इस मामले से जैसे निपटा मैं उसके लिए उनका शुक्रगुजार हूं। मैं चार मैचों के लिए बैन लगाने के आईसीसी के फैसले को मानता हूं। मेरे लिए ये मुद्दा खत्म हो गया है, लेकिन पीसीबी मुझसे जो भी कहेगा मैं वो करूंगा।

क्या बोले थे सरफराज

गौरतलब है कि सरफराज ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ डरबन में खेले दूसरे वनडे मैच में एंडिले फेहलुकवायो के खिलाफ नस्लीय टिप्पणी की थी। साथ ही उनकी मां के लिए गलत शब्दों का भी इस्तेमाल किया था। सरफराज ने कहा था कि अबे काले, तेरी अम्मी आज कहां बैठी हैं। क्या पढ़वा के आया है आज।