पोर्ट ऑफ स्पेन में भारतीय टॉप ऑर्डर मचा सकता है धमाल,देखें बेहद हैरान करने वाले आंकड़ें

Updated on: Aug 10, 2019 5:01 pm IST

  • Top Order

    तीन मैचों की सीरीज का पहला मैच बारिश के चलते धूल जाने के बाद भारतीय टीम दूसरे एकदिवसीय मुकाबले में विंडीज से भिड़ेंगी। पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले जाने वाले इस मुकाबले में भारतीय टॉप ऑर्डर बल्लेबाजों का रिकॉर्ड बेहद दमदार रहा है।

    धवन, कोहली और रोहित की त्रिमूर्ति का रिकॉर्ड इस मैदान पर काफी शानदार रहा है, खासतौर पर हिटमैन को यह मैदान काफी रास आता है। आइए एक नजर डालते है इन तीनों ही बल्लेबाजों के इस मैदान पर आंकड़ों पर…

    हिटमैन को बेहद रास आता है पोर्ट ऑफ स्पेन का मैदान

    रोहित शर्मा का बल्ला पोर्ट ऑफ स्पेन के मैदान पर जमकर आग उगलता है। हिटमैन ने इस मैदान पर खेले 5 मैचों में 113 की औसत से कुल 227 रन बनाए है, जिसमे दो अर्धशतकीय पारी भी शामिल है।

    हालांकि हैरान करने वाली बात ये है की रोहित के बल्ले से इस मैदान अबतक कोई शतकीय पारी नहीं देखने को मिली है। ऐसे में अगर आंकड़ों पर यकीन किया जाए तो हिटमैन इस मुकाबले में ही अपना शतक का सूखा खत्म कर सकते है।

     

    जमकर बोलता है कप्तान कोहली का बल्ला

    विराट कोहली का रिकॉर्ड भी इस मैदान पर काफी शानदार रहा है। कोहली ने पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले 7 मैचों में 56 की औसत से कुल 337 रन बनाए है, जिसमे एक शतक और दो अर्धशतकीय पारी शामिल है।

    आखिरी टी20 मुकाबले में कोहली अर्धशतक जड़ कर पहले ही फॉर्म में वापसी के संकेत दे चुके है,ऐसे में अगर कप्तान के इस मैच में दौरे की पहली शतकीय पारी खेल देते है तो हैरत की बात नहीं होगी।

     

    यह भी पढ़े – टेस्ट चैंपियनशिप: विंडीज ने किया टेस्ट टीम का ऐलान,इन दो युवा खिलाड़ियों को मिली टीम में जगह

     

    शानदार है गब्बर का रिकॉर्ड

    टी20 सीरीज में रनों के लिए जूझते नजर आए शिखर धवन एकदिवसीय फॉर्मेट में अलग ही बल्लेबाज नजर आते है। पोर्ट ऑफ स्पेन के मैदान पर गब्बर का रिकॉर्ड भी बेमिसाल रहा है, धवन ने इस मैदान पर अबतक कुल 7 मैच खेले है जिसमे उन्होंने 43.43 की औसत से कुल 307 रन बनाए है। शिखर ने इस मैदान पर 7 पारियों में चार अर्धशतकीय पारी खेली है।

    यानि अगर आंकड़ों की माने तो भारतीय टीम का टॉप ऑर्डर पोर्ट ऑफ स्पेन के मैदान पर रनों की बरसात कर सकता है और अगर ऐसा हुआ तो विंडीज के गेंदबाजों के लिए इस त्रिमूर्ति को रोक पाना बेहद मुश्किल कार्य होगा।

     

     

     

    Previous Article
    Next Article