भारतीय टीम को चारो ओर से सवालों का सामना करना पड़ रहा है. मौजूदा टेस्ट सीरीज में उनका प्रदर्शन काफी ज्यादा खराब है. जहां सभी की निराशा टीम के साथ है तो वहीं हरभजन ने भी अपनी नाराजगी जाहिर की है. एक न्यूज चैनल के साथ इंटरव्यू के दौरान उन्होने हार्दिक पांड्या के कारण हुई हताशा को दर्शाया. गौरतलब है कि पांड्या दोनों मुकाबलों में प्रदर्शन करने में नाकामयाब थे.

 

हरभजन ने निहायत कठोर भाषा में अपनी नाराजगी जाहिर की. उन्होने कहा कि हार्दिक पांड्या के पास से हरफन मौला खिलाड़ी का टैग ले लेना चाहिये. हरभजन ने कहा कि पांड्या ने उस हिसाब से रन नहीं बनाए या विकेट नहीं लिए जिसकी उनसे उम्मीद थी. विराट भी उनकी गेंदबाजी पर विश्वास नहीं कर रहे.

 

हरभजन ने कहा कि जब पांड्या अपने स्तर के अनुसार नहीं प्रदर्शन नहीं कर रहे तब चिंतन की आवश्यकता है. उन्हे आलराउंडर नहीं माना जाना चाहिये. हरभजन ने पांड्या को कपिल देव की रेप्लेसमेंट मानने से सिरे से इंकार कर दिया. हरभजन ने कहा कि पांड्या रातों रात अगले कपिल देव नहीं बन सकते.

 

 

हरभजन जो कि टेस्ट क्रिकेट में 400 से ज्यादा विकेट ले चुके हैं उन्होने पांड्या की तुलना इंग्लैंड के आलराउंडर से की और अपना बिन्दु समझाने की कोशिश की. उन्होने सैम करन का पहले मुकाबले में प्रदर्शन और बेन स्टॉक का दूसरे मुकाबले में प्रदर्शन का पांड्या के प्रदर्शन से तुलना किया. उन्होने कहा कि भारतीय टीम भी पांड्या से वही उम्मीद लगा रही है.

 

हरभजन ने कहा कि अगर पांड्या अच्छा नहीं करते तो भविष्य में उनके लिए काफी मुश्किले खड़ी हो सकती हैं.

 

आंकड़े भी हरभजन की बातों का समर्थन करते हैं. पांड्या ने चार पारियों केवल 90 रन बनाये और गेंदबाजी में भी वे कुछ खास नहीं. गेंदबाजी विभाग में पांड्या बुरी तरह फेल हुये हैं. तेज गेंदबाज ने केवल तीन विकेट लिये हैं और कोहली भी उनसे गेंदबाजी कराने में कोई खास उत्सुकता नहीं है.