कोहली ने कहा कि “मुझे अपने शारीरिक पहनावे के कारण जज किया जाता था “

फ़ैशन मैग्जीन जीक्यू ने अपने अगस्त के वर्जन पर विराट कोहली को कवर पर जगह दी गई है. 

 

बीते समय में कोहली ने खुद को स्टाइल आइकन की तरह खुद को उभारा है, उन्होने इसी पत्रिका को अपना एक इंटरव्यू भी दिया जिसमें वे अपने शुरुआती दिनों की बात करते हैं. उन्होने बताया कि उनकी फ़िज़िकल अपीयरेंस के कारण लोगो को उनकी क्षमता पर शक होता था.

 

दिग्गज बल्लेबाज ने बताया कि शुरुआती दिनों में लोग उनकी क्षमता पर शक करते थे.

 

वे बताते हैं कि, ” जब मैंने खेलना शुरू किया तब, लोग मुझे जज करते थे. उन्हे लगता था कि मैं खेल नहीं पाऊंगा और शारीरिक रूप से काफी कमजोर हूं.” उन्होने कहा कि खेल के प्रति समर्पण ही आपको आगे लाता है.

 

View this post on Instagram

No guts -No glory-No story! On stands tomorrow ✌🏻 @gqindia

A post shared by Virat Kohli (@virat.kohli) on

 

कोहली ने आगे कहा कि, ” लोग कुछ भी कहेंगे पर सच यह है कि जब आप अच्छा खेलेंगे तो आप जरूर आगे आयेंगे. मुकाबले टैटू बनवा कर नहीं जीते जाते, उन्हे जीतने के लिए समर्पण की जरूरत होती है. “आगे कोहली ने कहा कि, “अब के युवा खुद को जिस तरह से चाहे प्रस्तुत करते हैं. अगर आपके शरीर पर टैटू हैं, या आप कानों में बाली पहनते हो तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. ऐसा नहीं है कि अगर मैं अपने बालों को सजाता हूँ, स्टाइल में रखता हूं तो मैं कैच लेने के लिए डाइव नहीं लगाऊंगा.”

 

जीत के बारे में कोहली कहते हैं कि,” जीत मेरे लिए बस एक लम्हा है. पहले हारने के बाद मैं निराश हो जाता था, पर अब मैंने हार को अपनाना सीखा है. जीत और हार दोनों आपको कुछ सिखाते हैं. “

 

29 वर्षीय कोहली ने कहा कि,” अब मैं केवल मेहनत और अभ्यास एक मैच के लिए नहीं करता, मैं दूरदर्शी होकर आगे के लिए सोचना चाहता हूं. “भारत अभी इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला खेल रहा है, जिसका पहला मुकाबला एडजस्टेंन में खेला जा रहा है.

 

पहले दिन स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन की मदद से भारत ने इंग्लैंड को 285 रन पर 9 विकेट लेकर रोक रखा है.

Previous Article
Next Article

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *