प्रभावशाली लेकिन काम की ज़रूरत है

लगता है कि ऋषभ पंत ने बीसीसीआई के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद को अपनी बल्लेबाजी से प्रभावित किया है लेकिन प्रसाद ऋषभ पंत को अपने ग्लव्स के साथ सुधार करते हुए देखना चाहते है। इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज़ के दौरान, 20 वर्षीय पंत ने ओवल के टेस्ट मैच के दौरान शतक लगाने वाले पहले भारतीय विकेटकीपर बने। लेकिन दुर्भाग्यवश, उन्होंने खेले गए तीन टेस्ट मैचों में स्टंप के पीछे अच्छा प्रदर्शन नहीं किया।

एक इंटरव्यू के दौरान, प्रसाद ने कहा कि वह वास्तव में इंग्लैंड के आखिरी टेस्ट में ऋषभ पंत की बल्लेबाजी करने के तरीके से खुश थे।

उन्होंने यह भी बताया कि उन्होंने कभी भी ऋषभ पंत की बल्लेबाजी पर संदेह नहीं किया। प्रसाद को पंत की सिर्फ विकेट कीपिंग अच्छी नहीं लगी |

ऋषभ पंत इसे कैसे ठीक करें :

एमएसके प्रसाद जो की खुद विकेट कीपिंग कर चुके है चाहते है कि पंत के लिए एक स्पेशल ट्रेनिंग सिस्टंम बनाया जाये | जिसकी देख रेख स्पेशल विकेट कीपिंग कोचेस करेंगे वहा पंत खुद की स्किल्स को बेहतर बना सकते है

प्रसाद ने यह कहते हुए जारी रखा कि अब पंत को तीन टेस्ट मैचों का अनुभव है और उन्हें पता है कि उनकी कमी कहा है । प्रसाद ने खुलासा किया कि वे उन्हें प्रशिक्षित करने के लिए कुछ समय के लिए विकेट-कोचिंग कोच के नीचे रखना चाहते हैं। उन्होंने यह भी खुलासा किया कि पंत अकेले नहीं थे, जिनपर उनकी नजर थी । प्रसाद ने यह भी कहा कि वह चाहते हैं कि पंत लंबे समय तक भारतीय क्रिकेट टीम की सेवा करें।

बातचीत में एलिस्टेयर कुक लाते हुए प्रसाद ने कहा कि यदि कठिन परिस्थितियों के कारण पिछले एक मैच को छोड़कर कुक जैसे खिलाडी भी अंडर परफॉर्म कर सकते है| तो टीम इंडिया से क्या उम्मीद की जा सकती है?

एलिस्टेयर कुक ने कहा कि इंग्लैंड बनाम भारत टेस्ट श्रृंखला के दौरान वो जिस हालात में खेले थे, वह सबसे कठिन परिस्थितियां थीं जो उन्होंने अपने पूरे करियर में कभी भी देखी हो ।

हार्डिक पांड्य की बात करते हुए कहा की पंड्या से आल राउंडर जैसे अपेक्षा थी जिस वजह से उन्हें काफी आलोचना सहनी पड़ी,प्रसाद ने कहा कि उन्हें अधिक स्थिरता की आवश्यकता है। दक्षिण अफ्रीका में और नॉटिंघम टेस्ट मैच के दौरान उनका प्रदर्शन दिखाता है कि वह सभी स्थितियों में प्रदर्शन करने में सक्षम है।

प्रमुख खिलाड़ी :
प्रसाद के अनुसार, अश्विन, रविंद्र जडेजा और कुलदीप टेस्ट मैच के लिए उन्हें बेस्ट लगते है| उन्होंने कहा कि उन्हें अश्विन और जडेजा के कौशल में कोई संदेह नहीं था और कुलदीप को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत ए के साथ अच्छा प्रदर्शन होगा। तीनों खिलाड़ी के बारे मे उन्होंने कहा कि तीनों खिलाड़ी किसी भी हालात मे अच्छा प्रदर्शन कर सकते है।

खुद को साबित करने के लिए मिलने वाले मौके के बारे मे उन्होंने कहा की वो नहीं बताना चाहते कि एक खिलाड़ी को कितनी बार मौका दिया जाएगा | प्रसाद ने कहा कि वह किसी भी खिलाड़ी को चमकने की संभावनाओं का खुलासा नहीं करना चाहता।

उनका मानना ​​है कि एक अच्छा खिलाड़ी खेल की गतिशीलता और मांगों को जानता है और जल्दी उसके अकॉर्डिंग खुद को त्यार कर लेता है।

आखिरकार, उन्होंने इंग्लैंड के हाथों 4-1 से हार के बारे में भी बात की। प्रसाद ने कहा कि यह एक महान श्रृंखला थी और 4-1 स्कोर दोनों टीमों के बीच कठिन प्रतियोगिता का सही स्कोर नहीं है। खेल मे ऐसे बहुत पड़ाव आये थे जिसकी मदद से टीम इंडिया और मैचेस जीत पाती।