भारत बनाम वेस्ट इंडीज टेस्ट श्रृंखला का दूसरा और आखिरी मुकाबला 12 अक्टूबर से खेला जाएगा| मेजबान भारत ने पहला मुकाबला अपने नाम कर लिया है और दूसरे मुकाबले में भी वे जीत के आस पास नज़र आएंगे| गौरतलब है कि वेस्ट इंडीज के खिलाफ यह टेस्ट काफी आसान हो सकता है और भारत पहला मुकाबला जीतकर टेस्ट श्रृंखला में बढ़त हासिल कर चुका है| ऐसे में भारत अपनी बेंच स्ट्रेंथ को इस मुकाबले में इस्तेमाल कर सकता है|

 

इन कारणों से अग्रवाल खेल सकते हैं दूसरा मुकाबला! 

 

मयंक अग्रवाल को दूसरे टेस्ट में खिलाया जा सकता है. गौरतलब है कि वेस्ट इंडीज के बाद भारत अगले माह से ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर खेलने जाएगा| जहां भारत के लिए बल्लेबाजी एक बड़ी चुनौती होगी| अक्सर ही देखा जाता है कि विदेशी दौरों पर भारत की बल्लेबाजी अच्छा प्रदर्शन नहीं करती| इन्ही कारणों से मयंक अग्रवाल की बल्लेबाजी को परखने के लिए उन्हे खिलाया जा सकता है|
भारत ने शिखर धवन और मुरली विजय को टेस्ट टीम से बाहर कर दिया है| इन्हे बाहर करने के कारण सलामी बल्लेबाज का स्थान खाली है|भारत के एल राहुल को पहले सलामी बल्लेबाज के तौर पर आगे बढ़ा रहा है| पृथ्वी शा ने भी अपने पदार्पण में शतक लगाकर दिखा दिया कि वे काफी आगे तक जाएंगे|

 

ऐसे में मयंक अग्रवाल को एक तीसरे सलामी बल्लेबाज के तौर पर टीम में खिलाया जा सकता है| इससे टीम की बल्लेबाजी और भी ज्यादा मजबूत होगी|
यह अग्रवाल के लिए प्रेरणादायक होगा 

 

गौरतलब है कि मयंक अग्रवाल ने पिछले घरेलू मुकाबलों में बहुत रन बनाए और उनकी बल्लेबाजी तकनीक भी बहुत अच्छी है|
मयंक अग्रवाल ने घरेलू क्रिकेट में हर फॉर्मट में काफी ज्यादा रन बनाए और उन्हे जब भी भारत ए के लिए मौका मिला उन्होने अच्छा प्रदर्शन किया|

 

इतने अच्छे प्रदर्शन के बाद उन्हे टीम में शामिल करने से, उनके आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी| उन्हे दूसरे टेस्ट मैच में खिलाने से उन्हे अन्तराष्ट्रीय स्तर पर खुद को स्थापित करने में मदद मिलेगी|
उन्हे दूसरे टेस्ट से खिलाने से उनके अनुभव में भी इजाफा होगा|

 

भारत के लिए सब कुछ साकारत्‍मक है
गौरतलब है कि भारत और वेस्ट इंडीज की टीमों के प्रदर्शन में काफी ज्यादा अंतर है| भारत के लिए घरेलू परिस्थितियों ने भी काफी मदद की है|
मयंक अग्रवाल को दूसरे टेस्ट में खिलाने से भारत का कोई नुकसान नहीं होगा|

 

अगर मयंक अग्रवाल को ऑस्ट्रेलिया में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पदार्पण का मौका मिला और वहां उन्होने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया तब यह उनके आत्मविश्वास पर काफी प्रभाव डालेगा| ऐसा होने से भारत की हार की संभावना भी बढ़ जाएगी| वेस्ट इंडीज के खिलाफ पदार्पण कराने से बेंच स्ट्रेंथ की क्षमता का अंदाजा भी लग जाएगा|